close button
विज्ञापन

नई पोस्ट

   25   50   75   100

एक शाम मेरे नाम (Manish Kumar)
1/30/2015 11:57:01 PM
एक शाम मेरे नाम क्यूँ मेरे हाथ अँधेरे लगदे ने जनवरी का महीना खत्म होने को है और वार्षिक संगीतमाला 2014 का ये सफ़र जा पहुँचा है ग्यारहवीं पॉयदान पर।
एक शाम मेरे नाम (Manish Kumar)
kolkatapost (Palash Biswas)
1/30/2015 11:54:00 PM
वैष्णव जन तो तेने कहिये जे पीर पराई जाणे रे ।2। पर दुःखे उपकार करे तोये मन अभिमान न आणे रे ।। सकल लोक मां सहुने वन्दे
kolkatapost (Palash Biswas)
kolkatapost (Palash Biswas)
1/30/2015 11:53:00 PM
आपत्ती मे किये गये इस संशोधन को है क्योंकी भविष्य मे कोई व्यक्ती या संस्था अदालत मे ये साबित कर दे की भारतीय जनता पार्टी के सांसद चुनाव आयोग को
kolkatapost (Palash Biswas)
निनाद गाथा (अभिनव)
1/30/2015 11:02:00 PM
अभिनव निनाद गाथा लगभग दस वर्ष पहले २००५ की बात है कवि सम्मेलनों हेतु अमेरिका जाने का निमंत्रण आया था। वहां के पंद्रह नगरों में कार्यक्रम होने थे। सोम ठाकुर और उदय प्रताप सिंह जी के संग एक महीने
निनाद गाथा (अभिनव)
अनंत शब्दयोग (दीपक भारतदीप)
1/30/2015 10:37:00 PM
दीपक भारतदीप दीपक भारतदीप की अनंत शब्दयोग पत्रिका जानते हैं जो लोग उनमें कोई गुण नहीं है ज़माने में मान के लिये नाटक करने लग जाते हैं। नहीं है जिसके अंदर किसी का भला करने की
अनंत शब्दयोग (दीपक भारतदीप)
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
1/30/2015 9:27:26 PM
चवन्नी चैप अजय ब्रह्मात्मज प्रमुख कलाकार के के मेनन टिस्का चोपड़ा आशीष वशिष्ठ मीता वशिष्ठ और अश्विनी कालसेकर। निर्देशक मनीष गुप्ता स्टार दो मनीष गुप्ता की रहस्य हत्या की गुत्थियों
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
1/30/2015 9:18:25 PM
चवन्नी चैप अजय ब्रह्मात्मज प्रमुख कलाकार गुरमीत चौधरी सपना पब्बी और अली फजल। निर्देशक करण दारा संगीतकार अंकित तिवारी जीत गांगुली बॉबी इमरान और नवद जफर। स्टार 1.5 भट्ट कैंप की खामोशियां
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
 सृजन पथ (Asha Saxena)
1/30/2015 8:58:00 PM
जिन्दगी की जंग से झूझते जो जंग बिरले ही जो जीत पाते हैं उसकी व्यथाओं से जंग सेहरा जीत का चाहते है सभी पर चन्द ही भाग्यशाली हैं जो जी पाते हैं ये पल तिलतिल मरना उन्हें रास नहीं आता एकाएक
सृजन पथ (Asha Saxena)
कबाड़खाना (Ashok Pande)
1/30/2015 8:39:00 PM
कबाड़खाना चंद्रकांत देवताले वहाँ जैसे सभी कुछ आईने के भीतर बसा था मै वहीं से अभी-अभी माँ के पास से आया हूँ उसकी आँखों में आँसू नहीं थे और
कबाड़खाना (Ashok Pande)
 पहलू (चंद्रभूषण)
1/30/2015 7:17:00 PM
चंद्रभूषण पहलू सारे बलात्कार एक जैसे होते हैं उनका नतीजा भी एक जैसा होता है एक टूटी-बिखरी जिंदगी जिसके धागे पहले की तरह फिर कभी नहीं जुड़ते लेकिन सारे बलात्कारी एक जैसे
पहलू (चंद्रभूषण)
कबाड़खाना (Ashok Pande)
1/30/2015 7:00:00 PM
कबाड़खाना लोग मुझसे पूछते हैं कि विश्व शांति के लिए वे क्या कर सकते हैं मैं कहती हूँ जाओ अपने परिवार और दोस्तों को प्यार करो मदर टेरेसा मुम्बई अफ़गानिस्तान तिब्बत
कबाड़खाना (Ashok Pande)
 GRADUATE ENGINEERS असोसीएशन (Sheetanshu Kumar Sahay)
1/30/2015 6:43:00 PM
शीतांशु कुमार सहाय का अमृत असंभव रुडी शीतांशु कुमार सहाय उद्यमिता विकास के लिए तीन सौ करोड़ का त्रिपक्षीय समझौता राष्ट्र के विकास मे महत्त्वपूर्ण योगदान
GRADUATE ENGINEERS असोसीएशन (Sheetanshu Kumar Sahay)
 बोलते अक्षर (Neeta Jha)
1/30/2015 5:29:00 PM
बोलते अक्षर दरवाजा खुलने की आवाज होती है पहले उसका चेहरा अंदर आता है चारों ओर मुआयना करती उसकी गोल बड़ी-बड़ी आँखें अगर अंदर सब कुछ ठीक लगा तो पैर घर के अंदर रखने से पहले ही उसकी स्टोरी
बोलते अक्षर (Neeta Jha)
हाशिया (Reyaz-ul-haque)
1/30/2015 5:20:00 PM
हाशिया भाषा सिंह अपनी इस ताजा रिपोर्ट में बता रही हैं कि कैसे प्रभुत्वशाली विचारों प्रथाओं और सामाजिक संरचनाओं को चुनौती देने वाले लेखकों की इस मुल्क में जीते जी हत्या
हाशिया (Reyaz-ul-haque)
 आँखो देखी (Admin Deep)
1/30/2015 5:15:00 PM
हसी के एक मुर्गी अंडे खरीदने बाज़ार गई मुर्गी दुकानदार से दो अंडे देना दुकानदार आप अंडो का क्या करेगी मुर्गी मुर्गे ने कहा है डार्लिंग 2 रुपये के लिये
आँखो देखी (Admin Deep)
कबाड़खाना (Ashok Pande)
1/30/2015 4:32:00 PM
कबाड़खाना कल से आज तक जितनी बार यह दृश्य आँखों के सामने से गुज़रा है मन तिड़क कर हज़ार टुकड़े हुआ है हम तुहारी यह रुलाई याद रखेंगे बेटा हमें तो नाम तक नहीं मालूम तुम्हारा पर तुम
कबाड़खाना (Ashok Pande)
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
1/30/2015 4:04:33 PM
चवन्नी चैप अजय ब्रह्मात्मज निर्देशक विभु पुरी स्टार 2.5 विभु पुरी निर्देशित हवाईजादा पीरियड फिल्म है। संक्षिप्त साक्ष्यों के आधार पर विभु पुरी ने शिवकर तलपड़े की कथा बुनी है। ऐसा
chavanni chap (चवन्नी चैप) (chavanni chap)
 (अवनीश सिंह चौहान)
1/30/2015 3:09:00 PM
अवनीश सिंह चौहान पूर्वाभास डॉ साधना बलवटे दिवाकर वर्मा 25 दिसंबर 1941 1 मई 2014 आपातकाल के दौरान ग्वालियर केन्द्रीय काराग्रह में रहे मीसाबंदी दिवाकर जी
(अवनीश सिंह चौहान)
 (Net Guru)
1/30/2015 3:01:24 PM
हिन्दूराष्ट्र मेक इन इंडिया रक्षा क्षेत्र में विदेशों पर निर्भरता कम करना और आत्‍मनिर्भरता प्राप्‍त करना सामरिक और आर्थिक दोनों कारणों से आज यह एक विकल्‍प
(Net Guru)
 बोलते अक्षर (Neeta Jha)
1/30/2015 2:59:00 PM
बोलते अक्षर गुमशुदा एक नन्ही परी दरवाजा खुलने की आवाज होती है पहले उसका चेहरा अंदर आता है चारों ओर मुआयना करती उसकी गोल बड़ी-बड़ी आँखें अगर अंदर सब कुछ ठीक लगा तो पैर घर के अंदर रखने से पहले ही उसकी स्टोरी
बोलते अक्षर (Neeta Jha)
 (Ravishankar Shrivastava)
1/30/2015 2:13:54 PM
रचनाकार कविता मांकितना कष्ट उठाती होगीजब गर्भ से रहती होगी मांकरती होगी परहेज कितनाजब गर्भ में पलता है लल्ला। क्या है उसे खानाक्या नहीं खानारखती है हरदमख्याल अपना। असहनीय
(Ravishankar Shrivastava)
 (अवनीश सिंह चौहान)
1/30/2015 1:24:00 PM
अवनीश सिंह चौहान पूर्वाभास रायपुर। पिछले 8 वर्षों से संचालित साहित्य संस्कृति और भाषा की अंतरराष्ट्रीय वेब पत्रिका सृजनगाथा डॉट कॉम द्वारा वर्ष 2013 से साहित्यिक
(अवनीश सिंह चौहान)
 (Ravishankar Shrivastava)
1/30/2015 12:50:53 PM
रचनाकार खटका शोभा ताई को आज लौटने में देर हो गयी थी धारावी के अपने झोंपड़-पट्टी इलाक़े में ज्यों ही वह दाख़िल हुई रोज़ से अलग सुनसान रास्ते देख चौंक गयी और हां यहां-वहां
(Ravishankar Shrivastava)
 NEWSLINE आगरा (Newsline Features And Press Agency,Agra- 282005Uttar Pradesh)
1/30/2015 12:04:48 PM
282005 न्यूज़लाइन आगरा जीवन में सफलता के चार मन्त्र अपनाने पर दिया जोर 05 डी लिट 107 मेडल 81 एमफिल तथा 495 पीएचडी उपाधि प्रदान की जो समाज अपने इतिहास को
NEWSLINE आगरा (Newsline Features And Press Agency,Agra- 282005Uttar Pradesh)
 विजय ऑन Blog (चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’)
1/30/2015 11:53:00 AM
चन्द्र भूषण मिश्र ग़ाफ़िल अंदाज़े ग़ाफ़िल 1 मनाने के श’ऊर को मेरे उनकी नाराज़गी तो काम आए। 2 अँधेरी रात में ही दीप जले तो अच्छा कोई भूला जो याद आए तो ग़ज़ल होती है। 3 आज
विजय ऑन Blog (चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’)
1  2  3  4  5  6  7  8  9  10  11  12  13  14  15  16  17  18  19  20  
विज्ञापन

Connect with us

विज्ञापन
इस कोड का प्रयोग करके आप अपने ब्लॉग को रफ़्तार ब्लॉग में दिखाएं तथा सर्च कराएं
raftaar blog

Top Blogs

टॉप ब्लॉग

विज्ञापन
विज्ञापन